पिता जेमी स्पीयर्स के अधीन ब्रिटनी स्पीयर्स की वर्षों से चली आ रही रूढ़िवादिता आखिरकार समाप्त हो गई है। ब्रिटनी स्पीयर्स ने अपने पिता के खिलाफ लड़ रही लड़ाई को जीत लिया है। कोर्ट के फैसले के अनुसार कंजरवेटरशिप को अब समाप्त कर दिया गया है। ब्रिटनी स्पीयर्स को अंततः पिता जेमी स्पीयर्स के तहत 13 साल के लंबे संरक्षण से मुक्त कर दिया गया है। 1990 और 2000 के दशक की शुरुआत में ब्रिटनी स्पीयर्स का शानदार करियर रहा था। ब्रिटनी स्पीयर्स को अक्सर पॉप की राजकुमारी कहा जाता है।

इसे भी पढ़ें: सपने होते हैं सच! केरल के मंदिर देवता को भेंट की गई मुस्लिम महिला की नन्ही कृष्णा पेंटिंग

कंजरवेटरशिप क्या होता हैं?

सुपीरियर कोर्ट की न्यायाधीश ब्रेंडा पेनी ने बुधवार को अमेरिकी गायिका ब्रिटनी स्पीयर्स के पिता की ‘कंजरवेटरशिप’ (संरक्षण व्यवस्था) को समाप्त कर दिया, जिसके जरिए वह 2008 से गायिका का जीवन एवं धन नियंत्रित कर रहे थे। अमेरिकी कानून के तहत ‘कंजरवेटरशिप’ में बुढ़ापे या शारीरिक या मानसिक सीमाओं के कारण किसी व्यक्ति के वित्तीय मामलों या दैनिक जीवन का प्रबंधन करने के लिए एक संरक्षक या एक रक्षक की नियुक्ति की जाती है। 

इसे भी पढ़ें: मोहित रैना से ब्रेकअप के बाद इस शख्स के साथ रिलेशन में थी मॉनी राय, शादी हुई पक्की

ब्रिटनी स्पीयर्स ने कैसे जीता केस

न्यायाधीश ब्रेंडा पेनी ने ब्रिटनी स्पीयर्स और उनके वकील मैथयू रोसनगर्ट की उस याचिका से सहमति व्यक्त की, जिसमें गायिका के पिता जेम्स स्पीयर्स की ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने का अनुरोध किया गया था। यह फैसला गायिका के लिए एक बड़ी जीत है, जिन्होंने जून और जुलाई में सुनवाई के दौरान अनुरोध किया था कि उनके पिता को उनकी जिंदगी से बाहर होने की जरूरत है। पेनी दोनों पक्ष की दलील सुनने के बाद कहा, ‘‘ मौजूदा स्थिति असमर्थनीय है। यह दर्शाता है कि स्थिति खराब है, जिसके मद्देनजर जेम्स स्पीयर्स की ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने की जरूरत है।’’ 

कंजरवेटरशिप हुआ समाप्त (2008- 2021)

जेम्स स्पीयर्स ने 2008 में इस ‘कंजरवेटरशिप’ की मांग की थी और तभी से ही वह गायिका का जीवन एवं धन नियंत्रित कर रहे थे। हालांकि हाल ही में उन्होंने अपना रुख बदलते हुए न्यायाधीश से ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने का अनुरोध किया था। स्पीयर्स ने जून में लॉस एंजिलिस में सुनवाई के दौरान 13 साल में पहली बार अदालत से ‘कंजरवेटरशिप’ समाप्त करने का अनुरोध किया था। स्पीयर्स ने इस व्यवस्था को ‘‘अपमानजनक’’ बताया था और इसके लिए अपने पिता तथा अन्य की निंदा की थी। उन्होंने कहा था, ‘‘ ‘कंजरवेटरशिप’ से मेरा भला होने से अधिक नुकसान हो रहा है। मैं एक जिंदगी पाने की हकदार हूं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here